हिम  की  रितु  सीत के  जीतबे  कौं  कुंजलाल  भोग  धरी  खिचरी  ।
बहु  मेवन गेर  सुगन्ध  सौं  महकी  अतिसय  धृत  सौं  निचुरी  ।।
दधि  दूध  मलाइ  अरोगत  हैं  रस  लम्पट  बात  करैं  विचरी  ।
ध्रुव बाँटत  श्रीहितरुप अलि , जै श्रीलालकिशोरी  जू  यौं  उचरी  ।।