सब सुख सदन बदन तुव राधे।
उपमा कमल ससी नहिं पावत, मीत मान अपराधे ।।
मृदु मुसक्यानि हरत मन नैनन, बंक बिलोकन ही दृग आधे।
लेत बलाय दुहुँ कर भगवत रसिक सिरोमनि गुननि अगाधे ।।