बैठे नाव विहरत पिय प्यारी ।
आवत तहां सुगंध मनहरनी, यमुना जल सुखकारी ll 
लाल धर्यो अंबर अति झीनो, माथे पाघ धरी मनोहारी l
गल पहुपन के हार मनोहर, प्यारी के तन पहुपन सारी ll 
सुन्दर श्याम आप ही खेवत, करत बात अपने जियवारी l
‘श्याम-ग्वालिनी’ रीझे परस्पर, अखियन अंखियाँ डारी ll