जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।
मोतिन लर अलकन संगा, मानो जटाजूट मे गंगा।।
जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।

मलयागिरी चन्दन/भस्म विराजे, मानो सुर डमरू बाजे।
जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।।

जोगी छबि वाबरो डोले, राधे-राधे राधे बोले।
जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।।

मोहन मंत्र फूंक दे मारी, सब बृज मोहनी डारी।
जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।।

जोगी सब संतो का प्यारा, शरण मलूक ने माना।
जोगी रंग भीना आया, अच्छा श्रृंगी नाद बजाया।।