आजु  सखी  अद्भुत  भाँति  निहारि  । 
प्रेम  सुदृढ़  की  ग्रंथि  परि  गई  गौर स्याम   भुज  चारि  ।। 
अबहीं  प्रात  पलक  लागी  हैं ,  मुख  पर  श्रम  कन  वारि  । 
नागरीदास  रस  पिवहु  निकट  व्है  अपने  वचन  निवारि  ।।